रांची में मैच नहीं अब रण होगा, संघर्ष बड़ा भीषण होगा
imgmain

 

कल से भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच रण शुरू होगा. तात्पर्य ये कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट मैचों की सिरीज़ का तीसरा टेस्ट मैच गुरूवार से रांची में खेला जाएगा. इससे पहले बेंगलुरू में हुए दूसरे टेस्ट मैच में बहुत कुछ ऐसा हुआ जिसके बाद लगता है कि रांची में मैच नहीं रण अब होगा, संघर्ष बड़ा भीषण होगा. 

नोएडा में एक कार्यक्रम के दौरान भारत के पूर्व कप्तान कपिल देव ने इस संघर्ष कि आशंका जताते हुए कहा है कि दोनो कप्तान विराट कोहली और स्टीवन स्मिथ मैदान में आक्रामकता तो दिखाएं लेकिन अपनी सीमा में रहें. उनका यह भी कहना था कि विश्व क्रिकेट के बारे में सोचना चाहिए. दोनों टीमों को अब विवाद छोड़ रांची टेस्ट पर ध्यान देना चाहिए. कपिल देव ने यह भी कहा कि विराट कोहली मे आक्रामकता है जो होनी भी चाहिए. यदि वह शांत हो गए तो विपक्षी उन पर हावी हो जाएंगे. अब इसका क्या अर्थ है.

जबकि क्रिकेट समीक्षक मानते हैं कि क्रिकेट एक परंपरा है, संस्कृति है, इसे वैसे ही रहना चाहिए. मैदान पर कई बार खराब चीज़ें होती है लेकिन उसका अर्थ यह नही है कि बातचीत ही ना हो. इससे विवादों पर अधिक चर्चा होती है खेल पर कम. दोनों बाते एकसाथ नही हो सकती. विराट को आक्रामकता छोडनी भी नहीं चाहिए. लेकिन यह सब नियंत्रण में हो, हद से अधिक ना बढ़े. यह प्रदर्शन और खेल दोनों के लिए बेहतर है.

जबकि भारत के एक अन्य पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर कि इक्षा है कि तीसरे टेस्ट मैच में आउट होने के बाद विराट कोहली डीआरएस लेने के लिए भारतीय ड्रेसिंग रूम की तरफ देखे. इसके बाद देखते हैं कि तब मैच रेफरी और आईसीसी क्या फ़ैसला करते है. बंगलुरु में मैच रेफरी क्रिस ब्रॉड ने ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ की इस बात को बेहद नरमी से लिया.

भले ही किसी खिलाड़ी के मन में बेईमानी ना हो लेकिन क़ानून कहता है कि आप डीआरएस के लिए पैवेलियन की तरफ नहीं देख सकते. ग़लती सबसे होती है लेकिन उसका कोई अंजाम ना हो ऐसा नहीं होता. आईसीसी को कम से कम एक चेतावनी स्टीवन स्मिथ को देनी चाहिए थी. साथ ही यह भी कहना चाहिए था कि अगर दूसरी बार ऐसा हुआ तो या तो ज़ुर्माना लगेगा या फिर मैच खेलने पर रोक लगेगी. यह केवल स्मिथ के लिए नही बल्कि हर खिलाड़ी के लिए एक इशारा होता.

क्रिकेट के जानकारों का मानना है कि बेंगलुरु में इतना कुछ होने के बाद रांची में मैच में शांति कैसे हो सकती है. इशांत शर्मा ने मुंह बनाकर स्मिथ को चिढ़ाया जिसकी चर्चा हुई. ऐसा भी नहीं होना चाहिए था. लोग इशांत को गेंदबाज़ी के लिए याद रखे ना कि मुंह बनाने के लिए. ऐसा भी सुना जा रहा है कि मैच से पहले विराट कोहली और स्टीवन स्मिथ आपस में बात करेंगे लेकिन लगता नहीं है कि जब दोनों टीमें मैदान में उतरेंगी तो उनकी आक्रामता या पैनेपन में कोई कमी आएगी. यानि कि रांची में अब टेस्ट मैच नहीं रण होगा  ये संघर्ष बड़ा भीषण होगा. 

 

Leave a comment